कैसे व्हाट्स-एप्प ने चाचा नेहरू को मार डाला

जवाहर लाल नेहरू को आपके ऑफिस के व्हाट्स-एप्प (WhatsApp) ग्रुप ने मार डाला । ओह, आप कहते हो, लेकिन उनकी तो सिफलिस यौन रोग से मृत्यु हुई थी ! इससे पहले उनका, जैकी कैनेडी, एडविना माउंटबेटन और पद्मजा नायडू सहित तेरह महिलाओं के साथ चक्कर था। ये बताने की ज़रुरत ही नहीं कि वह गुप्त रूप से आरएसएस के सदस्य थे,  गुलाम नबी आजाद और अमिताभ बच्चन उनके बेटे हैं, और बेशक पूरे भारत भर में एक लाख नाजायज नेहरू आज तक घूम रहे हैं । इन सभी सनसनीखेज दावों में से कोई हमारे द्वारा नहीं बनाया गया है; ये सारे आरोप सीधे ज्ञान के अद्भुत और अभूतपूर्व विश्वकोश, जिसे की भारतीय व्हाट्स-एप्प ग्रुप के नाम से जाना जाता है, से सीधे निकाले गए हैं ।

ऐसा नहीं है की भारतीय नेताओं में नाटकीयता की कोई कमी है, कि उनके बारे में फ़र्ज़ी तथ्य बनाने की ज़रुरत पड़े। उनमें से एक अपना ही मूत्र प्रतिदिन पीते थे, इंदिरा गाँधी एक दीवानगी के जूनून के साथ अपनी मौत से पहले ज्योतिषी रखा करती थीं, अमित शाह का अस्तित्व-मात्र, इन सब को लेकर कॉमेडी, त्रासदी और सस्पेंस से भरपूर एक बॉलीवुड फिल्म बनाई जा सकती है । निश्चित रूप से; गुफाओं में रहते पहले आदि-मानव ने जब खुद को अपने कबीले का  शासक चुना, उसी पल से राजनीतिक प्रोपगैंडा चल रहा है, और यह कहीं भी नहीं जाने वाला  है। मीडिया के माध्यम से चरित्र हत्या कई बार बाहर किया गया है। यहां हम ये पता लगाने की कोशिश करेंगे कि कैसे, सोशल मीडिया के आगमन, और भारतीयों के व्हाट्स-एप्प और फेसबुक ग्रुप की सड़ी हुई गहराई में अचानक कूदने की वजह से, वह इंसान, जिसे पहले चाचा नेहरू के रूप में जाना जाता था, की पूरी तरह से हत्या कर डाली है; वैभवशाली गरुड़ पक्षी की जगह  एक कौवे की तरह, उनकी जगह एक ऐसा निर्मित व्यक्तित्व रख दिया है जिसे पहचानना भी मुमकिन नहीं है । और हम सभी को बहुत शर्मिंदा होना चाहिए।

नेहरू के प्रधानमंत्री कार्यकाल के दौरान, राजनैतिक आलोचनाओं का एक जंगली उफान चलता रहता था। स्वतंत्रता के बाद राष्ट्रवादी जूनून जैसे जैसे पतला होता गया और पाकिस्तान, कश्मीर तथा चीनने  भारतीय समीकरण में रेंगना शुरू किया, उसके साथ तीखी आलोचना से भरे लेख भी आये। प्रेस की ओर से  नेहरू के लिए सभी दिशाओं से आलोचनाएं आयीं – अयोग्य है, बहुत ज्यादा शांतिवादी है, बहुत बूढा है, मेनन पर बहुत निर्भर करता है – ये सभी पूरी तरह से स्वीकार्य आलोचनायें हैं, इनमे से क्या सही है या गलत है, इसपर हर किसी व्यक्ति की अपनी राय हो सकती है । एक बहुचर्चित घटना है, कि केशव शंकर पिल्लई के एक कार्टून में एक कमजोर नेहरू का चित्रण (हालांकि ये भी कुछ हद तक एक विडंबना है – अपने जीवन के अंतिम दिनों में उनका वजन काफी बढ़ गया था ) किया गया था, जो हांफते हुए एक दौड़ के अंतिम चरण को पूरा करने की कोशिश कर रहा  था, जिसके जवाब में खुद नेहरू ने कहा था,  ‘मुझे भी नहीं छोड़ना, शंकर.

उन दिनों में, आलोचना सिर्फ आलोचना हुआ करती थी – चाहे कितनी भी जहरीली या अशिष्ट हो। केवल जब आलोचना व्यक्तिगत स्तर पर पहुँचती थी, नेताओं द्वारा उनका खंडन प्रकाशकों के लिए भेजा जाता था। शायद यही कारण था कि राजनीतिक आलोचना एक सीमा को पार नहीं करती थी – क्योंकि समाचार पत्र और पत्रिकाएं अभी भी सार्वजनिक प्रेस थे, इसलिए वो जो कहते थे उस के लिए जवाबदेह होते थे, और यदि कुछ झूठ साबित होता, तो उसके परिणामों का सामना करना पड़ता था। बेशक, उस समय राजनीतिक कार्टून थे; बल्कि गांधी परिवार और अन्य शीर्ष नेता इनके मुख्य पात्र हुआ करते थे, कई बार इन्हें असभ्य और साथ ही भोंडे तरीके से दर्शाया जाता था । फिर भी, लोग ये नहीं समझते थे की ऐसे कार्टून सच्चाई दर्शा रहे हैं, या वास्तव में सच के कहीं भी निकट भी  हैं। जैसा कि “एक लंबी यात्रा” में रोहिंटन मिस्त्री कहते हैं  “आपने अखबार में जो कुछ भी पढ़ा पहले दो से भाग कर दें- नमक और काली मिर्च के लिए। जो बचा है, उसमे से दस प्रतिशत अदरक और लहसुन है, उसे भी निकाल दें । और कभी-कभी, पत्रकार पर निर्भर करता है, मिर्च पाउडर के लिए पांच प्रतिशत और निकालें । तब, और केवल तब, आपको मसाला और प्रोपगैंडा से मुक्त सच मिल पायेगा”

लोग बेशक अफवाहों मुंह-ज़बानी फैलाते थे, लेकिन उनको सिर्फ राजनीतिक कार्टून समकक्षों की तरह देखा करते थे (साक्षात्कार), वो इनकी उत्सुकतापूर्वक चर्चा भी करते थे, लेकिन इनको ब्रह्मसत्य कभी नहीं मानते थे। मेरे जैसे किसी व्यक्ति के लिए जो सामाजिक मीडिया के साथ बड़ा हो रहा है, यह लगभग चमत्कारिक है कि लोगों में पूरी तरह से पता करने की सहज आत्म क्षमता थी कि समाचार पत्र एक तरफ के प्रोपगैंडा से पूरा भरा हुआ है या दूसरे तरफ के, और हालांकि कोई न कोई एडविना माउंटबेटन के बारे में कानाफूसी या अन्य टिप्पणियाँ कर सकता है, कोई भी यह घोषणा नहीं करता कि भारत चीन से युद्ध उनके कारण से हार गया था ।

और फिर व्हाट्स-एप्प आया ।

व्हाट्स-एप्प ग्रुप भारतीय मध्यम वर्ग के लिए सामूहिक रोमन हम्माम की तरह हैं, और व्यंग्यात्मक, हल्की फुल्की चुटकी के बीच पुराने ‘कांग्रेस नेताओं’ को बदनाम करने के लिए एक जीव एजेंडा है, और जवाहरलाल नेहरू इनके मुख्य लक्ष्य हैं। ध्यान रहे, इन अफवाहों कि अचानक ही सोचा और मजाक के रूप में लिखा नहीं गया है, यह एक अच्छी तरह से सोची समझी रणनीति है, जो कि धूर्त है पर फिर भी काफी चतुराई के साथ सामने लाइ गयी है। क्यों? क्योंकि वे लगभग विश्वसनीय हैं। क्योंकि व्हाट्स-एप्प और फेसबुक निजी नेटवर्क हैं; और यदि ऐसे नेटवर्क आपातकाल के दौरान अस्तित्व में होते, शायद भारत को आज हम जिस रूप जानते हैं, वैसा नहीं होता। पर यही इंटरनेट जिस पर आजकल राजनीति फटाफट गति पर आजकल चलायी जाती है, मोदी जी के ट्विटर भक्तों से लेकर ‘कायर और मनोरोगी’ की कुख्यात ट्वीट तक, एक कहीं अधिक नापाक अभियान का हिस्सा भी है – एक पूर्ण झूठ के अभियान का।

चलिए एक यात्रा पर चलें। सुरक्षात्मक काले चश्मे डाल लीजिये।

छवि
छवि
छवि
छवि
छवि
छवि
छवि
छवि

अब धीरे से अपनी आँखें हाइड्रोक्लोरिक एसिड के साथ साफ करिये

यह सारे झूठ लगभग एक मंदिर में कीचड़ उछालने जैसी  बात है, क्या यह नहीं है? क्या अमेरिकियों को आपने जॉर्ज वॉशिंगटन और अब्राहम लिंकन के बारे में ऐसी साइटों को बनाते हुए देखा है, एक या दो विवादास्पद या दुष्ट राष्ट्रपति के अलावा, क्या अन्य किसी के बारे में वहाँ कभी मानहानि की इस तरह एक साजिश की गयी है? उपरोक्त दावों का एक  गूगल खोज के साथ, या आगे थोड़ा पढ़ने से, आसानी से खंडन किया जा सकता है । चलिए कुछ आसान वालों के तथ्यों को पहले ज़रा साफ़ कर लिया जाए, बस ये दिखाने के लिए कि ये कितने भोंडे और बकवास हैं । सबसे पहले, बाल दिवस पामेला हिक्स को ‘उनका राज़  बताने से रोकने के लिए’ रिश्वत देने के लिए बनाया गया नहीं हो सकता – बाल दिवस पहली बार नेहरू की मृत्यु के बाद 1964 में मनाया गया। नेहरू ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सीट को अस्वीकार नहीं किया। भारत-रत्न उन्होंने खुद को नहीं दिया था। सिफलिस का कोई मतलब नहीं बनता है। सिफलिस पर पढ़ें; और आप तुरंत समझ जाएंगे कि इसे रोग के रूप में चुना गया था क्योंकि उसके कुछ लक्षण बुढ़ापे से मौत के लिए समान हैं । यहाँ है एक (व्हाट्स-एप्प मस्तिष्क – भरोसा ना करने वाला) के लिए एक ख्याल: शायद वह स्ट्रोक जिसने  ‘कि उसे दर्दनाक तरीके से आंशिक रूप से लकवे का  शिकार बनाया, और उन्हें बायां पैर घसीट कर चलना पड़ता था’ का एक दिल का दौरा पड़ने के बाद निधन हुआ हो, जिसकी वजह ये थी कि, यो चौहत्तर साल के बूढ़े थे, और उन्हें एक युद्ध में गंभीर हार का सामना करना पड़ा ?

एडविना माउंटबेटन इस षड़यंत्र में मुख्य कड़ी हैं, और उन्हें यह साबित करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है कि सोशल मीडिया के माध्यम से चलाया जा रहा यह अभियान दरअसल एक षड़यंत्र का हिस्सा है। माउंटबेटन के कागजात कोई खंडहर से खोदा अवशेष नहीं हैं जिसकी खोज आज ही अचानक हुई है । यह कागजात कई साल पुराने हैं, माउंटबेटन और नेहरू – दोनों के बारे में कई जीवन कथायें लिखी जा चुकी हैं – जो सभी एडविना के साथ बहुत करीबी दोस्ती का उल्लेख करती है। मेरा कहने का मतलब है, यह बिल्कुल महत्वपूर्ण नहीं था, जब तक कि उन्होंने  इसे ऐसा बनाना नहीं शुरू किया – भोंडी फोटोशॉप तस्वीरों, और फ़र्ज़ी पत्र और घटनाओं के साथ। एडविना और नेहरू के कई पत्र अभिलेखागार में सबके सामने खुले हैं, और यह बिल्कुल अचरज है कैसे संघियों ने एक पूरी तरह से खुले संबंध को नाटक और झूठ की एक साजिश में बदल सकता है। जब यह दोस्ती जनता के सामने एक खुली किताब के तौर कई साल से सामने थी,  खुद पामेला माउंटबेटन द्वारा  उनके संबंधों की मिठास पर टिप्पणी की गयी – तो फिर इसे इस तरह व्हाट्स-एप्प के माध्यम से क्यों भेजा जा रहा है, जैसे कि कोई दोषी नवयुवक चुपके से गन्दी पत्रिकाओं को छुपा रहा हो?

जवाहरलाल को बच्चे चाचा नेहरू के नाम से बुलाते थे इसकी एक वजह थी; ऐसा नहीं था कि वह एक दिन सुबह उठे और उन्होंने एकाएक कानूनी तौर पर अपना नाम बदल दिया था। तो फिर यह किस तरह का जघन्य उपक्रम था जिसने हर किसी द्वारा अपने चाचा के रूप में देखा जाने वाले आदमी को एक विकृत मानसिकता वाले इंसान में बदल दिया ? इसके जड़ तक पहुँचने के लिए थोड़ी खुदाई की ज़रुरत थी। दर्जनों ब्लॉग पृष्ठों में ऊपर चित्रित ऐसी गंदगी भरी पड़ी हैं; इसलिए मैं इनका सबसे पहला उल्लेख ढूँढना चाहती थी, और गूगल खोज परिणाम को थोड़ा सीमित करने के बाद, मुझे वह विद्वान व्यक्ति मिल गया । हाँ, इस अकेले इंसान ने अपने कांस्पीरेसी थ्योरी से भरे ब्लॉग में 2001 में – पूरी गंभीरता के साथ का दावा है कि “इल्लूमनाटी” भारतीय स्वतंत्रता में शामिल था, और  ‘नेहरू एक वेश्यालय में पैदा हुआ था.’ शीर्षक वाले एक ब्लॉग के अलावा बिना कोई भी स्रोत और उद्धरण बताये बड़े बड़े दावे किये थे.

छवि

हाँ. इस आदमी का स्रोत है।

तो यह! हमारे बुद्धिमान और विद्वान राजनीतिक स्रोत यह आदमी है, हमारे प्रधानमंत्री द्वारा सही जा रही बीमारियों पर, सोनिया गांधी के माता पिता का संबंध, इंदिरा गांधी की गुप्त जीवन, आदि पर विद्वत्तापूर्ण लेख इसने लिखे है। एकमात्र व्यक्ति, जिसकी अंग्रेजी भाषा पर पकड़ भी तृतीय श्रेणी की है, द्वारा चलाया गया एक ब्लॉग । इस आदमी ने, जीव विज्ञान के सभी क़ानून किनारे रखते हुए, पिछले पंद्रह सालों के दौरान लगातार कई अन्य ब्लॉगों को जन्म दिया था – एक खरगोश की तरह प्रजनन करते हुए, (यदि खरगोश भी जंगली और बकवास से भरे होते हैं तो) । राजीव दीक्षित भी, जो अपने विकिपीडिया पृष्ठ पर दावा है कि वह एक ‘सामाजिक कार्यकर्ता’ हैं, ने यूट्यूब पर  ‘नेहरू एक लड़की के लिए कुछ भी कर सकता था’ जैसे भड़काऊ और आक्रामक शीर्षक वाले वीडियो की एक श्रृंखला डाली है. इनमे उछालते हुए अक्षर, बहरे के कान भी भेद देने वाला संगीत, और किसी भी स्रोतों का नाम नहीं मिलेगा । मुझे पूरी उम्मीद है कि राजीव दीक्षित आपके राजनीतिक या बौद्धिक नायक नहीं बने रहें, यह ध्यान में रखते हुए कि वह बाबा रामदेव के साथ शरीक रहे  हैं, और उनके अन्य वीडियो ‘डॉक्टर के बिना कैसे स्वस्थ रहें.’ जैसे शीर्षक पर है

छवि

सर्वोच्च क्रम के राजनैतिक बुद्धिजीवी

इसी तरह की निराधार साइटों से मसाला ढेर सारे “!!!!!” और “~ ~ ~” इमोजी के साथ व्हाट्स-एप्प संदेशों में कॉपी किया जाता है; और मम्मी और पापा के स्मार्टफोन तक सीधे पहुँचा दिया जाता है। मुझे मालूम है वे यह क्यों कर रहे हैं; नेहरू  के साथ घृणा की भावना पैदा करके, वे अन्य स्वतंत्रता सेनानियों के साथ चिपक सकते हैं , उन्हें कांग्रेस विरोधी के रूप में चित्रित करके। लेकिन इस तरह के तरीके निंदनीय हैं। इन के साथ अक्सर चित्रों का एक बड़ा संग्रह भी होता है; जिनके पीछे गलत धारणाओं को साफ़ करने में भी मैं सहायता करूंगी । क्योंकि यह वास्तव में सिर्फ दो सेकंड लेगा ।

छवि

उनकी बहन

छवि

उनकी बहन

छवि

यह तो नेहरू है भी नहीं, यह एक ब्रिटिश नाटक ‘ड्राइंग लाइन’ से अभिनेता सीलास कार्सन का फोटो है,

छवि
छवि

भगवान के लिए, इसे गंभीरता के साथ नहीं लिया जा सकता है

इस दृष्टिकोण के साथ जो अफवाहें है कि एक बार केवल फुसफुसाते हुए और सब से अधिक दूर के दक्षिणपंथी पत्रिकाओं में मंगाई एक जान-बूझकर दुर्भावनापूर्ण स्मियर अभियान मुख्य धारा में बदल गया है। हाल ही में, इण्डिया टुडे ने युवा आईटी विशेषज्ञों ने जो पैसे का एक सेट राशि के लिए राजनीतिक प्रतिष्ठा को बर्बाद कर देगा की भुगतान समुदायों के अस्तित्व का पता लगाया था, और सामग्री ऐसी Whatsapp समूहों का अध्ययन करने के बाद, यह शायद बहुत तरह के कारोबार के कम से कम एक जोड़े थे शामिल है। एक उद्धरण-साठ साल उनकी मृत्यु के बाद नेहरू के सिर पर। यह त्रासदी के इतने सारे तत्व नहीं है, तो यह हास्यप्रद होगा।

जाहिर है, कांग्रेस ज़रूर नेहरू के नाम को पुनर्जीवित करने का प्रयास करती है; धूमधाम के साथ उनकी उपलब्धियों, और बाल दिवस बहुत व्यापक रूप से  मनाया जाता है लेकिन दरअसल यह एक और कारण है कि क्यों उन्हें बदनाम करने की रणनीति अच्छी तरह से काम कर रही हैं। शीर्ष नेतृत्व या यहां तक कि एक अकेले निचले स्तर के कार्यकर्ता की वजह से, कांग्रेस को मामूली तरीके से भी नापसंद करने वाले लोगों का भी ऐसे संदेशों पर विश्वास करने की कहीं अधिक संभावना हैं। पार्टी अपनी तरफ से पूरी मेहनत करती है, NSUI नेताओं और सोनिया गांधी  नेहरू के पत्र और अन्य पुस्तकों का प्रकाशन करके पुन: जारी करते है, लेकिन अब उनकी राजनीतिक उपलब्धियां का अधिक कवरेज देने के बजाए, जरूरत इस बात की है, कि उनके व्यक्तित्व के प्रति अधिक जागरूकता पैदा की जाए। इस पर पर्याप्त प्रयास नहीं है।  ये और भी दर्शाने की ज़रुरत है कि वह कैसे जेल में रहने को लेकर अजीब तरह से उत्साहित रहते थे , कैसे लता मंगेशकर के गीत सुन उनकी आँखों से आँसू बह गए, कैसे वह सुबह अपने शीर्षाशन करते हुए अपने फोन लिया करते थे, और उन्होंने कैसे औपचारिकताओं ने बंधे रहने वाले लॉर्ड माउंटबेटन से भी पर फर्श के लेटकर योग करवाया। ज़रुरत है कि लोग उनसे फिर से जुड़ सकें, क्योंकि डिजिटल दुनिया में उनकी वर्तमान छवि सच से दूर है, उनके लायक नहीं है ।

सरकार द्वारा पुस्तकों पर लगातार प्रतिबंध लगाये जाने ने भी परोक्ष रूप से ऐसे कांस्पीरेसी थ्योरी पर इतनी उत्सुकता के साथ विश्वास लोगों की प्रक्रिया के लिए योगदान देता है। इंडियन समर्स (रद्द किए गए) फिल्म के साथ भारत ने ‘नेहरू और एडविना माउंटबेटन के बीच कामुक दृश्यों’ को फिल्म से निकालने के बारे में उपद्रव किया था। इसका नतीजा ये हुआ, की जब ये बात चलती की यह फिल्म किस पुस्तक पर आधारित थी, नेहरू के विरोधी राईट विंग के लोगों में से वो, जिनमे अपना श्रोत उद्धृत करने की हिम्मत थी, अपनी किसी मनगढंत पुस्तक का उल्लेख करने का मौका मिल गया.  हालांकि, जो लोग एलेक्स वॉन तुंजेलमांन द्वारा लिखी पुस्तक इंडियन समर्स पढ़े थे, उन्हें मालूम था कहीं किसी भी सही मायने में रोमांटिक दृश्य मौजूद नहीं है, और बल्कि सिर्फ एक ‘कथित’ रिश्ते का एक ब्यौरा था, जो कि पूरी तरह से हानिरहित था। ‘लाल साड़ी’  जैसे मशहूर, और काफी विलंबित पुस्तक पढ़ने के बाद, वास्तव में यह यह मेरी नज़र में सोनिया गाँधी को पहले से कहीं अधिक प्रिय बनाती है, (यद्यपि यह किसी के निजी मामले में दखल के रूप में देखा जा सकता है)  – हालांकि पहले इसके बारे में अफवाह हानिकारक और खतरनाक लग रही थी । इसी तरह M.O. मथाई की “नेहरू युग के संस्मरण” में, हालांकि कुछ हास्यास्पद दावा किया गया, यह फिर भी Whatsapp संदेश में किया कुछ हलके फुल्के दावों की अपेक्षा      कोई ख़ास खराब नहीं है

सत्ता में रहकर नेहरूवादियों को किताबों या फिल्मों को बैन नहीं करना चाहिए; पूरी तरह झूठ पढ़ने के बजाय एक थोड़ा नमक मिर्च लगा संस्करण का सच समझना ही बेहतर है। पहले से मौजूद पुस्तकों और फिल्मों, प्रतिबंध लगाकर लोगों का संदेह कि वहाँ कुछ छुपाने के लिए है, को और हवा देने के बजाय, क्या यह बेहतर नहीं होगा कि सच के करीब का पालन करने नई फिल्मों को रिलीज ही कर दिया जाए? नेहरू की राजनीतिक विशेषता दर्शाती श्रृंखला ‘भारत एक खोज’, या संविधान को लोगों ने बहुत सराहा है। पर, इन श्रृंखलाओं को सिर्फ कुछ सैकड़ों बार देखा गया, जबकि दीक्षित की साजिश वीडियो को हजारों बार देखा गया है, और उन पर टिप्पणियों की भरमार है। ऐसे में जीवनी पर आधारित एक नई फिल्म को लाना, जो की ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित हो, (कुछ काल्पनिकता के साथ, यह स्वाभाविक ही है), जनता को समझाने के लिए कहीं अधिक प्रभावी तरीका होगा, बजाए इसके कि एक या दो जगह दायरे से थोड़ा भी बाहर निकलती पुस्तकों पर प्रतिबंध लगाया जाए ।

लेकिन यह कोशिश केवल एक कांग्रेस पार्टी की ही नहीं होनी चाहिए – यह यह सही मायने में अराजनैतिक तभी लगेगा, जब एक जमीनी स्तर पर प्रयास हो । ऐसे लोग भी हैं, जो कट्टरपंथी का समर्थन नहीं करते हैं, फिर भी नेहरू के बारे में Whatsapp संदेश और ब्लॉग साइटों में उल्लिखितउन सभी चीजों पर विश्वास करते हैं (साक्षात्कार) । ऐसी साइटों पर तथ्यों को  ‘काउंटर’ करने का एक ही रास्ता है, कि आप सबूत के लिए पूछें। अक्सर बिल्कुल शून्य सबूत होंगे, जबकि ज्यादातर प्रोपगंडा के लिए कई शोध किये हुए और उद्धरीत जवाब मिल जाएंगे। कोरा (Quora) सच और झूठ दोनों के लिए एक स्रोत बना हुआ है, और अंतर करना अविश्वसनीय रूप से आसान है। महत्वपूर्ण सुझाव: कोई भी वास्तविक इतिहासकर अपने जर्नल का नाम ‘नेहरू का जन्म वेश्यालय में’ नहीं रखेगा – शीर्षकों पर क्लिक करें और आप तुरंत समझ जाएंगे की यह एक पागल षड्यंत्र-ब्लॉग है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता दोमुहां तलवार है; सबसे पहले, यह झूठ बोलने की स्वतंत्रता नहीं है, और दूसरे, आप दीक्षित के वीडियो पर जाएँ और उन्हें अपमानजनक सामग्री के लिए रिपोर्ट करने, या टिप्पणी में काउंटर करने के लिए स्वतंत्र हैं। जमीनी स्तर पर सहयोग के बिना, इसे केवल राजनीतिक प्रोपगंडा के रूप में देखा जाएगा, इसलिए ऐसे झूठ वितरित किये जाने के लिए आप भी समान रूप से जिम्मेदार हैं ।

(एंटी-नेहरूवादी प्रचार पर एक पाकिस्तानी के साथ साक्षात्कार)

शायद हम अकेले देश होंगे जो कि इस तरीके से अपने ही नायकों को मारता है। सरदार पटेल लगातार नेहरू की हत्या की धमकी के बारे में चिंतित रहते थे; और जो लोग आज पटेल को सम्मान देने का नाटक कर रहे हैं, ये वही हैं जिन्होंने पहले प्रधानमंत्री ने सिर पर सबसे बड़ी बोली को प्रसारित किया है। और कुछ दावे बेरहम होने के अलावा कुछ भी नहीं है, हर किसी को ज़हर का जवाब सच्चाई से देना होगा, इससे पहले की सोशल मीडिया की तेज़ वाइरल करने की प्रव्रित्ति इसे और तेज़ी से फैलाये । यदि वह व्यक्ति, जिसे पूरे देश के बच्चों द्वारा कभी चाचा नेहरू कहा जाता था, को कभी पता चला था कि देश के बड़े संख्या के लोग अब उसे एक पीडोफाइल के रूप में देखती  है, तो उसका दिल टूट जाएगा, बस ये याद रखिये।

यह आलेख मूल रूप से यहाँ दिखाई दिया। लेखक की अनुमति के साथ प्रतिलिपि बनाई गई। 
Rate this post
Share This:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *